हरे भरे पेड़ को न काटें ये मैं नहीं हदीस कहती है: मौलाना तौक़ीर क़ासमी

0
17

जौनपुर:हरे भरे पेड़ को न काटें ये मैं नहीं हदीस कहती है: मौलाना तौक़ीर क़ासमी जमीअत उलेमा जौनपुर की आज एक अहम बैठक स्थित जमीअत दफ़्तर में हुई मीटिंग का आगाज़ मौलाना मोहम्मद उमर नें तिलावत ए क़ुरान से किया।
मोहम्मद शोएब नें नात ए पाक पेश किया मीटिंग की अध्यक्षता करते हुऐ जमीअत उलेमा के जिलाध्यक्ष मौलाना तौक़ीर अहमद क़ासमी नें कहा कि जमीअत हमेशा गरीबों मज़लूमों की आवाज़ बनकर उभरी है चाहे वोह बेक़सूर मुसलमानों को झूठे मुकद्दमों में फसाने का मामला हो या केरल में बाढ़पीड़ितों की मदद का मामला रहा हो जमीअत सबके साथ खड़ी रहती है। मौलाना नें आगे कहा कि आज देश भर में नफ़रत का माहौल है हम सबको ऐसे नफ़रत भरे माहौल में एक दूसरे से मिल जुलकर रहने की ज़रूरत है।
आगे अपील करते हुए कहा कि हमसब हरे पेड़ को ना काटें और पानी को बेकार ना बहायें जितने की ज़रूरत है उतना ही हम इस्तेमाल करें ये बातें मैं नहीं हदीस में बहुत पहले ही बता दी गयी हैं जमीअत इन्हीं बुनियादी कामों पर काम कर रही है और इसी लिये आगामी गड़तंत्र दिवस पर जमीअत पेड़ पौधे लगाने का काम करेगी मौलाना नें अंत में अपील करते हुए कहा कि आप सभी जमीअत उलेमा के साथ जुड़ें और एकता अमन भाई चारगी का पैग़ाम देनें में हमारी मदद करें।
मीटिंग के अंत में मुल्क में अमन व अमान की दुवाएँ मांगी गईं इस अवसर पर डॉक्टर ए ए जाफ़री डॉक्टर अरीब डॉक्टर तुफ़ैल डॉक्टर दानिश अब्दुर्रक़ीब इंजीनियर जावेद अज़ीम सद्दाम हुसैन अब्दुल्लाह हाफ़िज़ सईद अख्तर मौलाना मोहम्मद उमर मौलाना अब्दुल्लाह निज़ामुलहक़ दानिश इक़बाल मौलाना सलाहुद्दीन अब्दुर्रब क़ासमी शाहनवाज़ खान आदि लोग मुख्य रूप से उपस्थित रहे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here