निराश्रित/बेसहारा पशुओ को अस्थायी आश्रय स्थल बनाकर उसमे रखने की व्यवस्था करवाए ग्राम प्रधान

0
28

जौनपुर । निराश्रित बेसहारा पशुओ को अस्थायी आश्रय स्थल बनाकर उसमे रखने की व्यवस्था करवाए ग्राम प्रधान मुख्य चिकित्साधिकारी डा0 वीरेन्द्र सिंह ने बताया कि निराश्रित बेसहारा पशुओ के लिये अस्थायी गोआश्रय स्थल की स्थापना व्यवस्था एवं प्रबंधन संचालन हेतु स्थानीय निकायो को एवं आश्रय स्थल पर भरण पोषण की व्यवस्था आदि सुविधा उपलब्ध कराये जाने के लिये ग्राम्य विकास विभाग पंचायतीरज विभाग नगर विकास विभाग को निर्देश दिये गये हैं। मुख्य विकास अधिकारी गौरव वर्मा द्वारा जनपद के समस्त ग्राम प्रधानो से आवाहन किया गया है कि कोई भी निराश्रित बेसहारा पशुओ को अस्थायी आश्रय स्थल बनाकर उसमे रखने की व्यवस्था करवाए । कोई भी गोवंश खुली जगहो पर घूमता हुआ न पाया जाय यदि पाया जाता है तो उसे नजदीक के अस्थायी गोआश्रय स्थल पर भेजवाया जाय साथ ही मुनादी कराई जाय कि कोई भी ग्रामवासी अपने पशु खुले में न छोंडे उन्हे घेरकर अथवा बांधकर रखे। क्योंकि एक ओर इससे कृषको की फसल का नुकसान होता है वही इनसे दुर्घटनाएं की भी सम्भावना बनी रहती है अगर इसके बावजूद भी लोग नही मानते तो शासनादेश स०-07/2018/2851/33-2-2018-25-जी/17 पंचायतीराज अनुभाग-2 लखनऊ 02 अगस्त 2018 के अनुपालन मे दण्डित किया जायेगा। सांड बैल गाय बछडा घोड़ी भैंस बछेडी बछेडा पडिया पड्वा टट्टू घोडा गधा खच्चर आदि पर रु0 1000 अर्थदण्ड और रु0 100 प्रतिदिन की दर से खुराकी 01 वर्ष तक के गाय के बछडे बछिया या पडवा पर रु0 500 का अर्थदण्ड और 50 रु0 खुराकी बकरा बकरी बकरी का बच्चा भेड भेडी एवं उसका बच्चा सुअर और उसके बच्चे पर रु0 500 का अर्थदण्ड और 50 रु0 खुराकी वसूला जायेगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here