पीड़ितों के मान सम्मान से खिलवाड़ करती पुलिस प्रशासन/शमशी अज़ीज

0
28

पीड़ितों के मान सम्मान से खिलवाड़ करती पुलिस प्रशासन/शमशी अज़ीज
जौनपुर । आज के युग मे पत्रकारिता का मार्ग अत्यंत दुर्लभ होता जा रहा है जो प्रतिदिन पत्रकारों के लिये जानलेवा बन रहा है पत्रकारिता का स्तंभ चतुर्थ होते हुए भी पत्रकारों को वो आदर, सम्मान, व सुरक्षा नही मिल पाती जिसके वे अधिकारी है फिर भी पत्रकार अपने कार्य के प्रति सदैव सजग,स्थिरता,निष्पक्षता व निपुणता के साथ अपने धैर्य का परिचय देते ही रहते है परंतु आज जिस प्रकार पत्रकारों पर प्रहार हो रहे है जो अत्यंत निंदनीय है जनपद जौनपुर में जिस प्रकार पत्रकारों के उत्पीड़न की घटनाये अधिक देखी जा रही है तथा पुलिस थाना व चौकी आदि पर पुलिस की दृष्टि में पत्रकार सदैव शत्रु के समान ही दिखते है परंतु इसके विपरीत कुछ अधिकारियों में पत्रकारों के प्रति स्नेह व सम्मान भी दिखता है जिससे उनके कार्य को विज्ञप्ति पत्र द्वारा सुंदर शब्दो मे उनके प्रबल व सराहनीय कार्य को समाचार पत्र के मुख्य पृष्ठ पर दर्शाया भी जाता है फिर भी पत्रकारों को सम्पूर्ण सम्मान दे पाने में समस्त अधिकारी असमर्थ है आज जिस प्रकार जौनपुर नगर की थाना कोतवाली व कुछ पुलिस चौकियों पर केवल चर्चित नेताओ का ही बोलबाला दिख रहा है सूत्रों से ज्ञात भी हुआ है कि यदि किसी अपराधी पर चर्चित नेताओ का आशीर्वाद बना हो तो उसे थाना कोतवाली व चौकियों पर ऐसे अपराधियो को कुर्सी,भोजन व सम्मान भी मिलता है तथा पीड़ित व्यक्तियो को अभद्र शब्दो की ही सेवा प्राप्त होती है पुलिस द्वारा नेता जी के सम्मान में जिस प्रकार अपराधी को मित्र बना लिया जाता है मानो जैसे अपराधी पुलिस के सहपाठी रह चुके हो जिसके वशीभूत हो कर वे सहपाठी की सेवा में कार्यरत रहते है तथा पीड़ितों को अपराधी मानकर दंड रूपी उपहार देते ही रहते है जिससे पीड़ित विवश होकर न्यायालय के द्वार पर जा पहुचता है तथा अपने न्याय के प्रति गुहार लगाता है यूँ तो पीड़ितो को पुलिस से बहुत सी आकांक्षा होती है परंतु उनकी अपेक्षाएं कब घातक रूप में परिवर्तित हो जाती पता ही नही चलता है परन्तु पुलिस न्यायपूर्ण कार्य करने में सक्षम नही हो पा रही है। संवाददाता लखनऊlive

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here