बाबा साहब डॉ भीमराव अंबेडकर जी का कविता

0
12

बाबा साहब को माननेवाले होतो कविता को पढ़ लेना ।
🌺कविता🌺
🌹झाड़ू छोड़ो कलम उठाओ,
परिवर्तन आ जायेगा ।
शिक्षा को हथियार बनाओ,
परिवर्तन आ जायेगा ।।
🌹दारू छोडो ज्ञान बढ़ाओ,
परिवर्तन आ जायेगा ।
हर कीमत पर पढ़ो पढ़ाओ,
परिवर्तन आ जायेगा ।।
🌹मनुवादी साधू सन्यासी,
ढोंगी पाखंडी पंडे ।
जनम-जनम के दुश्मन है ये,
मत थांमो इनके झंडे ।।
🌹इनको हमसे काम चाहिए,
सन्डे हो या मंडे ।
इनके झांसे में ना आओ,
परिवर्तन आ जायेगा ।।
🌹दलित अछूत के बच्चों को,
कोई दुलार नहीं करता ।
दलित उज्जवल भविष्य,
कोई स्वीकार नहीं करता ।।
🌹दलित महापुरुषो का भी,
कोई सम्मान नहीं करता ।
इनके आगे सर ना झुकाओ,
परिवर्तन आ जायेगा ।।
🌹कहने को तैतीस करोड़ देवता है,
लेकिन कोई नहीं अपना ।
कोई नहीं चाहता कि,
दलित का सच हो सपना ।।
🌹सपना अपना सच करने को,
खुद आगे आना होगा ।
बात यही सबको समझाओ,
परिवर्तन आ जायेगा ।।
🌹मानवता के धर्म को मानो,
कर्म को ही मानो पूजा ।
माता पिता से बढ़के जग में,
देव नहीं कोई दूजा ।।
🌹भला चाहते हो तो ऊँची,
करलो अपनी सीढ़ी को ।
संसद तक पहुँचाओ,
आने वाली पीढ़ी को ।।
🌹खुद अपनी तुम राह बनाओ,
परिवर्तन आ जायेगा ।
आज भी गाँवो में देखो,
जिन्दा है बस मज़बूरी में ।।
🌹नहीं गुजारा हो पाता है,
गाँवो की मजदूरी में ।
अगर हो बाबा साहब के वंशज,
थोडा फर्ज निभा देना ।।
🌹अपने शोषित समाज को जगा के,
कुछ बाबा साहब के कर्ज को चूका देना ।
तुम अपना कर्तव्य निभाओ,
परिवर्तन आ जायेगा
Jay Bheem Nmo Budhay

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here